मुंगेर सहित अनुमंडल अस्पताल तारापुर में ट्रू नेट मशीन से कोरोना के साथ टीबी एवं रिफाइम्प्सिन की जांच

  • डिस्ट्रिक्ट टीबी सेंटर मुंगेर से अनुमंडल अस्पताल तारापुर के प्रभारी उपाधीक्षक को जारी की गई थी चिट्ठी
  • राज्य स्वास्थ्य समिति के कार्यपालक निदेशक ने भी अपने पत्र में राष्ट्रीय टीबी उन्मूलन कार्यक्रम की सफलता के लिए इस मशीन से टीबी जांच करने का दिया निर्देश

मुंगेर, 10 अगस्त । जिला मुख्यालय मुंगेर स्थित डिस्ट्रिक्ट टीबी सेंटर के साथ – साथ अनुमंडल अस्पताल तारापुर में ट्रू नेट ( क्वाट्रो) मशीन से कोरोना के साथ – साथ टीबी एवं रिफाइम्प्सिन की भी जांच की जा रही है। इस मशीन से कोरोना के साथ- साथ टीबी एवं रिफाइम्प्सिन की जांच करने के लिए डिस्ट्रिक्ट टीबी सेंटर मुंगेर से अनुमंडल अस्पताल तारापुर के प्रभारी उपाधीक्षक को विगत 22 जुलाई को एक चिट्ठी जारी की गई थी। इससे पहले राज्य स्वास्थ्य समिति के कार्यपालक निदेशक ने भी 10 जुलाई को जारी किए अपने पत्र में राष्ट्रीय टीबी उन्मूलन कार्यक्रम की सफलता के लिए इस मशीन से टीबी जांच करने का दिया निर्देश दिया था।

जिला यक्ष्मा केंद्र मुंगेर के जिला टीबी/एचआईवी समन्वयक शैलेन्दु कुमार ने बताया कि अनुमंडल अस्पताल तारापुर भेजे गए ट्रू नेट ( क्वाट्रो) मशीन के निम्नलिखित भाग हैं जिनसे मशीन सुगमता पूर्वक कार्य करता है और कोरोना और टीबी की सटीक जांच करता है।

  1. ट्रू लैब (क्वाट्रो) रियल टाइम क्वानटिटेटिव
  • माइक्रो पीसीआर एनालाइजर
  • आरएनए एक्सट्रैक्टर
  1. टीएम स्पा फिक्सेस वॉल्यूम प्रीसीजन माइक्रोपीटर्स -6 यूएल
    3.. ट्रू लैब (क्वाट्रो) वर्क स्टेशन एसेसरीज पैक
    उन्होंने बताया कि जिलावासियों की सुविधा के लिए जिला मुख्यालय मुंगेर सहित अनुमंडल अस्पताल तारापुर में भी राज्य स्वास्थ्य समिति के कार्यपालक निदेशक, सिविल सर्जन मुंगेर और जिला संचारी पदाधिकारी के निर्देशानुसार ट्रू लैब (क्वाट्रो) मशीन से लगातार कोरोना के साथ-साथ टीबी एवं रिफाइम्प्सिन की जांच की जा रही है। इस दौरान भारत सरकार और राज्य सरकार के द्वारा आम लोगों के लिए जारी किए गए कोरोना गाइड लाइन का सख्ती के साथ पालन किया जा रहा है। इन दोनों स्थानों पर कोरोना और टीबी की जांच करवाने आने वाले लोगों और जांच करने वाले कर्मियों के लिए मास्क लगाना अनिवार्य कर दिया गया है। इसके साथ ही जांच के लिए जुटने वाले लोगों को गाइड लाइन के तहत एक – दूसरे से कम से कम छह फीट या दो गज की दूरी बरतने की अपील की गई है ताकि एक स्थान पर काफी संख्या में भीड़ जुटने के बाद कोरोना संक्रमण के फैलने की संभावना खत्म हो जाए। इसके साथ ही इन स्थानों पर कोरोना या टीबी की जांच के लिए आने वाले लोगों के हाथों की नियमित साफ- सफाई के लिए पानी- साबुन के साथ-साथ हैंड सैनिटाइजर की भी व्यवस्था की गई है।

उन्होंने बताया कि कोरोना संक्रमण की संभावित तीसरी लहर को देखते हुए सटीक कोरोना जांच और राष्ट्रीय टीबी उन्मूलन कार्यक्रम की सफलता के लिए टीबी की सटीक जांच में ट्रू नेट ( क्वाट्रो) मशीन मील का पत्थर साबित होगी ।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

%d bloggers like this: