रामगढ़ और लखीसराय पीएचसी पर आशा कार्यकर्ताओं को दी गई परिवार नियोजन जागरूकता अभियान की जानकारी 

 – प्रत्येक आरोग्य दिवस के दिन बुधवार और शुक्रवार को आंगनबाड़ी केंद्रों पर टीकाकरण के साथ परिवार नियोजन के साधनों के बारे में लोगों को करें जागरूक 

 – आशा को परिवार नियोजन जागरूकता अभियान में पंचायत स्तर के जनप्रतिनिधियों को भी शामिल करने का निर्देश 

 लखीसराय- 

जिले के रामगढ़ और लखीसराय प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र पर सोमवार को आशा कार्यकताओं की बैठक हुई | इसमें परिवार नियोजन जागरूकता अभियान में आशा कार्यकर्ताओं की भूमिका विषय पर चर्चा की गई। बैठक को सम्बोधित करते हुए जिले के अपर मुख्य चिकित्सा पदाधिकारी  डॉ. देवेंद्र चौधरी ने बताया कि प्रत्येक आरोग्य दिवस पर बुधवार और शुक्रवार को सभी आंगनबाड़ी केंद्रों पर सेविका और सहायिका के अलावा आशा कार्यकर्ता टीकाकरण के साथ – साथ वैसी महिलाएं जिन्हें कोई बच्चा न हो या जिन्हें कम से कम एक बच्चा हो या फिर गर्भवती महिलाओं को परिवार नियोजन के महत्व और जरूरत के साथ स्थाई और अस्थाई साधनों के बारे में जानकारी दें। साथ ही जीविका दीदी और केयर के प्रतिनिधि घर- घर जाकर नवदम्पति सहित अन्य दम्पतियों के साथ बैठक कर उन्हें परिवार नियोजन के महत्व के  बारे में बताएं| यह भी बताएं कि कैसे परिवार कि प्लांनिग कर आप अपने खुद के स्वास्थ्य के साथ – साथ अपने बच्चे के स्वास्थ्य, शिक्षा, पोषण और सुख- सुविधा बेहतर ढंग से उपलब्ध करवा सकते हैं।  आंगनबाड़ी केंद्र पर लोगों को परिवार नियोजन के महत्व, स्थाई और अस्थाई साधनों के बारे में दी जाती है जानकारी -जिले के डीटीएल केयर नावेद उर रहमान ने आशा कार्यकर्ताओं को सम्बोधित करते हुए कहा कि केयर इंडिया के ” परिवार नियोजन सुरक्षित है ” अभियान के तहत जिले के सभी आंगनबाड़ी केंद्र पर प्रत्येक आरोग्य दिवस के दिन ई. रिक्शा जागरूकता रथ के माध्यम से माइकिंग कर आंगनबाड़ी केंद्र पर आने वाले सभी लोगों को परिवार नियोजन के महत्व के साथ -साथ स्थाई और अस्थाई साधनों के बारे में जानकारी दी जाती है। आप सभी आशा कार्यकर्ता आरोग्य दिवस पर आंगनबाड़ी केंद्र पर आने वाली सभी लोगों को परिवार नियोजन के साधन अपनाने के लिए प्रेरित करें।  परिवार नियोजन के प्रति लोगों को जागरूक करने में पंचायत स्तर के जनप्रतिनिधियों से लें सहयोग : डीटीएल केयर ने आशा कार्यकर्ताओं को सम्बोधित करते हुए कहा कि आप सभी लोग परिवार नियोजन के प्रति लोगों को जागरूक करने के लिए घर- घर जाने के दौरान पंचायत स्तर के जनप्रतिनिधि जैसे मुखिया, सरपंच, वार्ड सदस्य, पंच, विकास मित्र सहित अन्य जनप्रतिनिधियों के भी सहयोग ले सकती हैं। उन्होंने बताया कि जिले के टोटल फर्टिलिटी रेट को 3 से 2 लाने के लिए आवश्यक है  कि परिवार नियोजन के लिए चलाए जा रहे अभियान को एक मिशन के रूप में चलाया जाय। राज्य सरकार के द्वारा मिशन परिवार विकास अभियान के तहत  ऐसा किया भी जा रहा है| लेकिन निर्धारित लक्ष्य की  पूर्ति तभी संभव हो सकती है जब समाज के सभी वर्गों का पूरा सहयोग प्राप्त हो। इसके लिए आप सभी आशा कार्यकर्ताओं के ऊपर जिम्मेदारी बहुत बड़ी है । आप लोगों को इस अभियान को सफल बनाने में पूरा सहयोग देना है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *