सघन मिशन इंद्रधनुष 4.0:  जिला भर में बनाए गए हैं 266 सत्र स्थल : सिविल सर्जन 

– बच्चों के सम्पूर्ण टीकाकरण को ले जिला में  शुरू हुआ सघन मिशन इंद्रधनुष 4.0 : डीआईओ 

– अभियान में जिला भर के 2376 बच्चों और 504 गर्भवती महिलाओं का सम्पूर्ण टीकाकरण होगा  

लखीसराय , 7 मार्च-
बच्चों के सम्पूर्ण टीकाकरण के शत- प्रतिशत लक्ष्य प्राप्ति और सोमवार से मिशन इंद्रधनुष 4.0 की सफ़लता को ले जिला भर में 266 सत्र स्थल बनाए गए हैं। उक्त बातें सोमवार को जिला स्वास्थ्य समिति लखीसराय के सभागार में  सेंटर फ़ॉर एडफोकेसी एन्ड रिसर्च के सहयोग से स्वास्थ्य विभाग के द्वारा सघन मिशन इंद्रधनुष 4.0 के शुभारंभ के अवसर पर आयोजित मीडिया कार्यशाला को सम्बोधित करते हुए सिविल सर्जन डॉ. देवेंद्र चौधरी ने कही। इस अवसर पर जिला स्वास्थ्य समिति लखीसराय के डीपीएम खालिद हुसैन, यूनिसेफ के एसएमसी मो. नैय्यर उर आलम, डीटीएल केयर नावेद उर रहमान, डॉ. जूली सहित कई लोग उपस्थित थे। उन्होंने बताया कि सोमवार से जिला भर के सभी प्रखण्डों में सघन मिशन इंद्रधनुष 4.0 के पहले चरण का शुभारंभ हुआ । सघन मिशन इंद्रधनुष 4.0 का दूसरा चरण 4 अप्रैल से और तीसरा चरण 2 मई से शुरु होगा। इसके लिए सभी प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र अन्तर्गत सभी 266 सत्र स्थल पर ससमय वैक्सीन और लॉजिस्टिक उपलब्ध करा दी गयी है। 
जिला प्रतिरक्षण पदाधिकारी डॉ. अशोक कुमार भारती ने बताया कि इस अभियान का मुख्य उद्देश्य कोरोना काल में नियमित टीकाकरण से छूटे हुए बच्चों और गर्भवती महिलाओं को    शत-प्रतिशत टीकाकृत करना है। कोरोना काल में लोग कोरोना संक्रमण से बचने के लिए नियमित टीकाकरण करवाने से परहेज बरत रहे थे। इसी को ध्यान में रखते हुए भारत सरकार ने इस महत्वाकांक्षी योजना सघन मिशन इंद्रधनुष 4.0 अभियान को तीन  चरणों में शुरू किया है। इसके पहले चरण का सोमवार से जिला के 266 सत्र स्थल पर  शुभारंभ हो गया है। इसके तहत जिलाभर के कुल 2376 चिह्नित बच्चों एवं 504 गर्भवती महिलाओं को टीकाकृत किया जाएगा। 
उन्होंने बताया कि बड़हिया प्रखण्ड के कुल 36 सत्र स्थल पर 0 – 2 वर्ष  के लक्षित बच्चों की संख्या 277 और लक्षित गर्भवती महिलाओं की संख्या 49 है। इसी तरह से हलसी प्रखण्ड के कुल 24 सत्र पर लक्षित बच्चों की संख्या 170 और गर्भवती महिलाओं की संख्या 26 है। 
लखीसराय प्रखण्ड के कुल 53 सत्र स्थल पर बच्चों की संख्या 643 और गर्भवती महिलाओं की संख्या 145 है। इसी तरह चानन के कुल 45 सत्र स्थल पर बच्चों की संख्या 529 और गर्भवती महिलाओं की संख्या 141 है। पिपरिया प्रखण्ड के कुल 29 सत्र स्थल पर बच्चों की संख्या 152 और गर्भवती महिलाओं की संख्या 26 है। इसी तरह रामगढ़ चौक प्रखण्ड के कुल 34 सत्र स्थल पर बच्चों की संख्या 314 और गर्भवती महिलाओं की संख्या 44 है। जिला के सूर्यगढ़ा प्रखण्ड क्षेत्र अंतर्गत बनाए गए कुल 45 सत्र स्थल पर बच्चों की संख्या 291 और गर्भवती महिलाओं की कुल संख्या 73 है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

%d bloggers like this: