स्वास्थ्यकर्मियों, फ्रंटलाइन वर्करों और बीमार बुजुर्गों को पड़ा बूस्टर डोज

 -कोरोना टीका की तीसरी डोज देने के लिए शहर में बनाए गए थे चार केंद्र-सभी केंद्रों पर काफी संख्या में लाभुकों ने आकर लिया कोरोना का तीसरा टीका 

बांका, 10 जनवरी- 

जिले में सोमवार से स्वास्थ्यकर्मियों, फ्रंटलाइन वर्करों, बीमार व  बुजुर्गों को कोरोना टीका के तीसरे यानी बूस्टर डोज देने की शुरुआत हो गई। इसे लेकर शहरी क्षेत्र में चार केंद्र बनाए गए थे। पुलिस लाइन, समाहरणालय, डायट और पीएचसी केंद्रों पर काफी संख्या में लोगों ने टीका लिया। इसे लेकर मंगलवार को भी अभियान चलाया जाएगा। शहरी प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र के प्रभारी डॉ. सुनील कुमार चौधरी ने बताया कि कोरोना टीका को लेकर लगातार अभियान चलाया जा रहा है। इसी सिलसिले में अब कोरोना टीका की तीसरी डोज देने की शुरुआत हुई है। इसके तहत ऐसे लोग जिनके कोरोना टीका की दूसरी डोज लिए नौ महीने पूरे हो गए हैं, उन्हें यह टीका दिया जा रहा है। मंगलवार को भी यह अभियान चलेगा। इसलिए मेरी अपील है कि जो लोग नौ माह पहले कोरोना टीका की दूसरी डोज ले लिए हैं वह आकर बूस्टर डोज लें और कोरोना से सुरक्षित रहें।गांधी चौक पर किशोरों-किशोरियों ने दिखाया उत्साहः उधर, शहर के गांधी चौक पर टीका लेने वालों की संख्या भी अच्छी खासी रही। खासकर किशोरों और किशोरियों की संख्या अधिक रही। इसके अलावा आमलोग भी काफी संख्या में टीका लेने के लिए आए थे। यहां पर कोरोना टीका की पहली और दूसरी डोज के साथ-साथ किशोरों और किशोरियों को कोरोना का टीका दिया जा रहा था। यहां पर स्कूल कॉलेज से आए छात्र-छात्राओं में टीका को लेकर खासा उत्साह था।400 लोगों की हुई जांचः उधर, कोरोना की तीसरी लहर से बचाने को लेकर जिले में जांच अभियान भी काफी तेज गति से चल रही है। सोमवार को शहरी प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र में 400 लोगों की जांच की गई। 200 लोगों की एंटीजन किट से जांच हुई तो 200 लोगों के सैंपल आरटीपीसीआर जांच के लिए लिया गया। डॉ. चौधरी ने बताया कि जांच में संक्रमित नहीं निकलने पर भी लोगों को सतर्क रहने के लिए कहा जाता है। कोरोना की गाइडलाइन का कड़ाई से पालन करने के लिए कहा जाता है। सामाजिक दूरी का पालन करते हुए दो लोगों के बीच दो गज की दूरी बनाए रखने के लिए कहा जाता है। साथ ही बाहर जाते वक्त मास्क लगाने के लिए कहा जाता है। घर में किसी सदस्य के बीमार होने पर तुरंत जांच कराने के लिए कहा जाता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

%d bloggers like this: