16 से 30 जनवरी तक सभी आंगनबाड़ी केंद्रों पर किया जा रहा है टीएचआर का वितरण

  • आंगन एप्प पर रजिस्ट्रेशन के बाद ओटीपी आने पर लाभार्थी के बीच किया जाता वितरण
  • कोरोना गाइड लाइन का पालन करते हुए लाभार्थियों के बीच किया जा रहा है वितरण

लखीसराय, 22 जनवरी 2021 : मकर संक्रांति के बाद 16 जनवरी से जिले के सभी आंगनबाड़ी केंद्रों पर टेक होम राशन (टीएचआर) का वितरण किया जा रहा है। यह कार्यक्रम आगामी 30 जनवरी तक जारी रहेगा। जिले के सभी आंगनबाड़ी केंद्रों पर कार्यरत सेविका और सहायिका ओटीपी वेरिफिकेशन के बाद ही लाभार्थी के बीच टीएचआर का वितरण कर रही है।

आईसीडीएस लखीसराय कि जिला कार्यक्रम पदाधिकारी (डीपीओ) कुमारी अनुपमा ने बताया कि कोरोना गाइड लाइन का पालन करते हुए 16 जनवरी से ही जिले के सभी आंगनबाड़ी केंद्रों पर सिविका और सहायिका के द्वारा लाभार्थियों के बीच मोबाइल ओटीपी के वेरिफिकेशन के बाद टेक होम राशन (टीएचआर) का वितरण किया जा रहा है। उन्होंने बताया कि आंगनबाड़ी केंद्रों पर सेविका और सहायिका के द्वारा लाभर्थियों को कोरोना टीकाकरण के बारे में भी जागरूक किया जा रहा है। उन्हें बताया जा रहा है कि कोरोना वैक्सीन पूरी तरीके से सुरक्षित है। इसका कोई साइड इफेक्ट नहीं है इसलिये सभी लोग अपनी बारी आने के बाद निश्चित तौर पर कोरोना कि वैक्सीन लगवाएं।

टीएचआर वितरण के लिए लाभार्थी का आंगन मोबाइल एप्प पर किया जाता है रजिस्ट्रेशन :
उन्होंने बताया कि टीएचआर वितरण के लिए सभी आंगनबाड़ी केंद्रों पर सेविका और सहायिका के द्वारा सबसे पहले आंगन मोबाइल एप्प पर लाभार्थी का मोबाइल नंबर रजिस्टर्ड कराया जाता है। इसके बाद ओटीपी आने पर उसका वेरिफिकेशन होता है और पोषाहार लिखा हुआ वेरिफिकेशन कोड आने के बाद हीं लाभार्थी को पोषाहार दिया जाता है।

आंगनबाड़ी केंद्रों पर लोगों के बीच किया जाता है टीएचआर का वितरण :
उन्होंने बताया कि जिले के सभी आंगनबाड़ी केंद्रों पर लोगों के बीच टेक होम राशन (टीएचआर) का वितरण किया जाता है। इनमें गर्भवती महिलाएं, धातृ माताएं सहित पोषण कि कमी से जूझ रहे बच्चे शामिल हैं। इन सभी लोगों के बीच टेक होम राशन ( टीएचआर) का वितरण किया जाता है।

टीएचआर के रूप में लाभार्थियों के बीच किया जा रहा पोषाहार का वितरण :
जिले के सभी आंगनबाड़ी केंद्रों पर पोषाहार के रूप में चावल, दाल, सोयाबीन, गुड़ के अलावे अन्य पोषक आहार का किया जा रहा है वितरण। इसके साथ हीं आंगनबाड़ी क्षेत्र कि सभी गर्भवती महिलाओं को गर्भवस्था के दौरान बरती जाने वाली सावधानी, खानपान में पोषक तत्वों कि उपलब्धता के साथ हीं गर्भवस्था के दौरान आने वाली परेशानियों सभी अवगत कराया जाता है। उन्होंने बताया कि जिले के प्रत्येक आंगनबाड़ी केंद्रों पर गर्भवती महिलाओं के गर्भ धारण करने पर गोद भराई का रस्म अदा कर उन्हें खानपान में पोषक तत्वों से युक्त भोजन खाने की सलाह दी जाती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *