धुंध के मौसम में कोरोना के संक्रमण से रहें सतर्क

वातावरण में मौजूद सूक्ष्म कण के जरिए संक्रमण की संभावना

दो गज की शारीरिक दूरी का करें पालन, भीड़भाड़ से करें अपना बचाव

बांका, 12 नवंबर।

मौसम में बदलाव हो रहा है। सर्दी शुरू हो गई है। अब सुबह में धुंध बढ़ने लगी है। ऐसा मौसम हृदय रोग और अस्थमा के मरीजों के लिए नुकसानदायक होता है। साथ ही ऐसे मौसम में कोरोना के संक्रमण की संभावना भी बढ सकती है। इसलिए किसी तरह की लापरवाही नहीं करें।

शहरी स्वास्थ्य केंद्र के प्रभारी डॉ सुनील कुमार चौधरी कहते हैं कि कोरोना का संक्रमण ड्रॉपलेट्स से होता है। धुंध पड़ने से मौसम में नमी ज्यादा रहती है। इससे कोरोना के वायरस की आयु बढ़ जाती है। इससे वातावरण में मौजूद सूक्ष्म कण के सांस लेने के दौरान शरीर के अंदर प्रवेश करने की संभावना रहती है। इससे कोरोना के संक्रमण की संभावना बढ़ जाती है। इसलिए इस मौसम में विशेष सावधानी बरतने की जरूरत है।

मास्क लगाना नहीं भूलें: डॉक्टर चौधरी कहते हैं कि ऐसे मौसम में घर से बाहर निकलते वक्त मास्क लगाना नहीं भूले। मास्क सबसे कारगर उपाय है इन परिस्थितियों में बचाव का। साथ ही 2 गज दूरी का पालन अवश्य करें। भीड़ भाड़ में जाने से परहेज करें।

धुएं से बचें: ऐसे मौसम में किसी भी तरह के धुएं से बचने की कोशिश करें।धूम्रपान, अगरबत्ती या फिर धूप से अपना बचाव करें। धुएं के जरिए शरीर के अंदर कोरोना के वायरस जाने की संभावना रहती है। इससे अपना बचाव करें।

साग सब्जी व मौसमी फलों का सेवन करें: ऐसे मौसम में खाने पर भी विशेष ध्यान देने की जरूरत है। साग और हरी सब्जी का अधिक से अधिक सेवन करें।साथ ही मौसमी फलों को अपने आहार में शामिल करें। इससे शरीर की प्रतिरोधक क्षमता बढ़ेगी, जिससे आपका शरीर कोरोना के वायरस से लड़ने में सक्षम रहेगा।

गर्म पानी का सेवन करें: ऐसे मौसम में अधिक से अधिक गर्म पानी का सेवन करें। गर्म पानी से गागल करने से गले में खराश की समस्या नहीं आएगी। साथ ही गर्म पानी पीने से शरीर के अंदर मौजूद अनावश्यक चीजें भी नष्ट हो जाएंगी। इसके साथ ही सर्दी, खांसी और जुकाम की समस्या से भी आप बचे रहेंगे।

कोविड 19 के दौर में रखें इसका भी ख्याल:
• व्यक्तिगत स्वच्छता और 6 फीट की शारीरिक दूरी बनाए रखें.
• बार-बार हाथ धोने की आदत डालें.
• साबुन और पानी से हाथ धोएं या अल्कोहल आधारित हैंड सैनिटाइजर का इस्तेमाल करें.
• छींकते और खांसते समय अपनी नाक और मुंह को रूमाल या टिशू से ढके.
• उपयोग किए गए टिशू को उपयोग के तुरंत बाद बंद डिब्बे में फेंके.
• घर से निकलते समय मास्क का इस्तेमाल जरूर करें.
• बातचीत के दौरान फ्लू जैसे लक्षण वाले व्यक्तियों से कम से कम 6 फीट की दूरी बनाए रखें.
• आंख, नाक एवं मुंह को छूने से बचें.
• मास्क को बार-बार छूने से बचें एवं मास्क को मुँह से हटाकर चेहरे के ऊपर-नीचे न करें
• किसी बाहरी व्यक्ति से मिलने या बात-चीत करने के दौरान यह जरूर सुनिश्चित करें कि दोनों मास्क पहने हों
• कहीं नयी जगह जाने पर सतहों या किसी चीज को छूने से परहेज करें
• बाहर से घर लौटने पर हाथों के साथ शरीर के खुले अंगों को साबुन एवं पानी से अच्छी तरह साफ करें

Leave a Reply

Your email address will not be published.