अपने बेहतर सिद्धांतों के जरिए अमेरिका विश्व की अगुआई कर रहा है- जय मदान

नईदिल्ली-
अमेरिकन जय मदान 12 वीं कक्षा में अपग्रेड हुए हैं। जय मदान काफी संवेदनशील विद्यार्थी हैं जो हर संवेदशील मुद्दे पर अपनी राय रखते हैं। उन्होंने खास तौर पर बगदाद के मुद्दे पर बातचीत करते हुए कहा कि जिस प्रकार से सद्दाम हुसैन ने आम आदमी के द्वारा किए जा रहे विकसित कार्य को नुकसान पहुंचा रहे थे वह काफी दर्दनाक था जिसके कारण अमेरिका को उसपर हमले करने पड़े ताकि सभ्यता को बचाया जा सके। जय मदान ने कहा कि जिस प्रकार से बगदाद ही नहीं अन्य जगहों पर निर्दोष व्यक्तियों पर हमले किए जा रहे थे जिससे आहत होकर बगदाद पर हमले किए गए।
जय मदान ने कहा कि 4 जुलाई को अमेरिका स्वतंत्रता दिवस मनाया जाता है। लोग देशप्रेम की भावना से ओतप्रोत रहते हैं। 4 जुलाई 1776 को अमेरिका को आजादी मिली थी। 4 जुलाई को ही अमेरिका के संस्थापकों ने आजादी घोषणा पत्र पर हस्ताक्षर किए थे। इनमें 56 राजनेता शामिल थे जिसमें थॉमस जेफरसन और बेंजामिन फ्रैंकलिन जैसे प्रसिद्ध शीर्ष नेता भी थे और इस तरह से ब्रिटिश साम्राजज्य की गुलामी की जंजीरों से आजाद होकर एक स्वतंत्र अमेरिका का जन्म हुआ।
जय मदान ने कहा कि समानता का अधिकार, जनता का सरकार बनाने का अधिकार और अयोग्य सरकार को बदल देने अथवा उसे हटाकर नई सरकार की स्थापना करने का अधिकार आदि ऐसे सिद्धांत थे जिन्हें सफलतापूर्वक अमेरिका ने क्रियात्मक रूप दिया जा सका। आज अमेरिका पूर्व विश्व की अगुआई कर रहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.