भीषण गर्मी और लू से निपटने के लिए बेहतर चिकित्सकीय प्रबंधन में जुटा स्वास्थ्य विभाग 

– राज्य स्वास्थ्य समिति के कार्यपालक निदेशक ने पत्र जारी कर सिविल सर्जन को दिए आवश्यक निर्देश
– सभी स्वास्थ्य संस्थानों में संबंधित परेशानी से निपटने के लिए समुचित स्वास्थ्य प्रबंधन की होगी व्यवस्था
खगड़िया, 18 अप्रैल-
  तापमान में लगातार हो रही वृद्धि से भीषण गर्मी का दौर शुरू हो गया है।  लू  व आग बरसाती धूप के कारण तो लोगों की परेशानी और बढ़ गई है। तापमान में और वृद्धि होने की  संभावना है। ऐसे में हर आयु वर्ग के लोगों को अपने स्वास्थ्य के प्रति विशेष सतर्क और सावधान रहने की जरूरत है। हालाँकि, इन समस्याओं से बखूबी निपटने के लिए शासन-प्रशासन भी गंभीर होकर आवश्यक तैयारी में जुट गया है। ताकि जिले में संचालित सभी स्वास्थ्य संस्थानों में समुचित और बेहतर चिकित्सकीय प्रबंधन की उपलब्धता सुनिश्चित हो सके और जरूरत पड़ने पर संबंधित मरीजों को सुविधाजनक तरीके से स्थानीय स्तर पर ही बेहतर स्वास्थ्य सुविधाएं उपलब्ध कराई जा सके। इसे सुनिश्चित करने को लेकर राज्य स्वास्थ्य समिति के कार्यपालक निदेशक संजय कुमार सिंह ने पत्र जारी कर सिविल सर्जन को आवश्यक निर्देश दिए हैं। जिसमें कहा गया है कि भीषण गर्मी और लू बरसती धूप के कारण लोगों को स्वास्थ्य से संबंधित समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है। दरअसल, छोटे और स्कूली बच्चों, बुजुर्गों, गर्भवती महिलाओं समेत अन्य जरूरतमंद कामगारों और लोगों को अपने-अपने जरूरी कार्य से तमाम समस्याओं के बाबजूद घर से बाहर निकलना पड़ता है। इसलिए, किसी भी प्रकार की स्वास्थ्य से संबंधित समस्याओं से स्थानीय स्तरीय पर निपटने के लिए सभी स्वास्थ्य स्थानों में बेहतर और समुचित स्वास्थ्य सुविधा की व्यवस्था सुनिश्चित कराने की जरूरत है। इसलिए, सभी सरकारी स्वास्थ्य संस्थानों में डेडिकेटेड वार्ड, दस्त अतिसार से संबंधित दवाओं का भंडारण, एंबुलेंस की सुविधा, चिकित्सा कर्मियों की प्रतिनियुक्ति आदि की व्यवस्था हर हाल में सुनिश्चित हो। ताकि जरूरत पड़ने पर संबंधित लोगों को बेहतर से बेहतर स्वास्थ्य सुविधा उपलब्ध कराई जा सके और जरूरतमंद लोग सुविधाजनक तरीके से स्वास्थ्य सेवा का लाभ प्राप्त कर सकें।
– सभी स्वास्थ्य संस्थानों के प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी को दिए गए गए हैं आवश्यक निर्देश :
सिविल सर्जन डाॅ अमरनाथ झा ने बताया, वर्तमान में भीषण गर्मी और लू  से होने वाली स्वास्थ्य से संबंधित समस्याओं से निपटने के लिए जिले के सभी स्वास्थ्य स्थानों में बेहतर और समुचित चिकित्सकीय प्रबंधन सुनिश्चित कराने का निर्देश प्राप्त हुआ है। जिसे सार्थक रूप देने के लिए जिले के सभी स्वास्थ्य संस्थानों के प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी को आवश्यक निर्देश दिए गए हैं। इसके अलावा जल्द ही सभी स्वास्थ्य संस्थानों के प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी के साथ बैठक कर हर बेहतर स्वास्थ्य सुविधा की व्यवस्था सुनिश्चित कराने के लिए एक्शन प्लान भी तैयार किया जाएगा। वहीं, उन्होंने कहा, मैं जिले वासियों से अपील करता हूँ कि भीषण गर्मी,  लू व तेज धूप के प्रभाव से बचाव के लिए पानी का भरपूर सेवन, मौसमी फलों का सेवन, नमक-चीनी का घोल, छाछ, नींबू पानी, आम का सरवत, लस्सी, तरबूज, खरबूज, खीरा, ककड़ी, कच्चे प्याज सत्तु, पुदीना, सौंफ आदि का सेवन करें। साथ ही अनावश्यक धूप में नहीं निकलें।
– इन बातों का रखें ख्याल और करें पालन :
– भूखे पेट घर से बाहर नहीं निकलें।
– अधिक देर तक भूखा नहीं रहें और समय पर खाना खाएं।
– सुपाच्य और हल्का भोजन करें।
– अत्यधिक शीतल पेय पदार्थों के सेवन करने से बचें।
– लगातार पानी का सेवन जारी रखें।
– स्वास्थ्य संबंधित परेशानी होने पर तुरंत चिकित्सकों से जाँच कराएं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

%d bloggers like this: