बदल कर अपना व्यवहार, करें कोरोना पर वार

कोरोना व अन्य तरह की बीमारियों से बचाव के लिए मानसिक तौर पर मजबूत रहना बहुत जरूरी

किसी भी तरह का तनाव लेने से बचें, हमेशा खुश रहने की कोशिश करें

भागलपुर, 29 सितंबर
किसी भी बीमारी से उबरने के लिए मानसिक रूप से मजबूत रहना बहुत जरूरी है. कोरोना काल में तो मानसिक तौर पर स्वस्थ रहना और भी अधिक आवश्यक है. जिस तरीके से समाज में कोरोना को लेकर एक माहौल बन गया है, उसमें अगर आप मानसिक तौर पर स्वस्थ नहीं रहेंगे तो परेशानी हो सकती है.
मायागंज अस्पताल के अधीक्षक और मानसिक रोग विशेषज्ञ डॉक्टर अशोक कुमार भगत कहते हैं कि अगर आप मानसिक तौर पर मजबूत हैं तो समझ लीजिए बीमारी के खिलाफ आपने आधी लड़ाई जीत ली है. बाकी की लड़ाई आप इलाज से जीत लेंगे. इसलिए कोरोना संक्रमण का डर खत्म करने के लिए लोगों को मानसिक तौर पर मजबूत होना बहुत जरूरी है.

सकारात्मक रहें और अपने काम से जीवन में संतुलन बनाकर रखें: डॉक्टर अशोक कुमार भगत ने बताया सकारात्मक रहना बहुत जरूरी है. साथ ही काम और जीवन में संतुलन बनाकर भी रखें. किसी भी तरह का तनाव लेने से बचें. एक तो कोरोना को लेकर लोगों के मन में डर है. ऊपर से अगर अन्य तनाव भी ले लेंगे तो इससे आप पर असर पड़ सकता है. इसलिए तनाव से बचने की कोशिश करें.

योग और ध्यान करें: योग करने से एकाग्रता आती है. लोगों में भटकाव कम होता है. इसलिए अभी योग और ध्यान पर भी फोकस करें. ऐसे में यह कोशिश जरूर करें कि कम से कम 45 मिनट योग और ध्यान में बीते. इससे आप मानसिक तौर पर तो संतुष्ट रहेंगे. साथ ही शारीरिक तौर पर भी स्वस्थ रहेंगे.

अपनों के संपर्क में रहें और अपनी भावनाओं को साझा करें: डॉक्टर अशोक कुमार भगत ने बताया अपनों के संपर्क में रहना बहुत जरूरी है. अगर आप अपनों के साथ रहेंगे तो आपको उनके प्रति चिंता नहीं होगी, लेकिन अगर आप अपनों से दूर रहेंगे तो उनके प्रति मन चिंतित रहेगा जो ठीक नहीं है. अपनी भावनाओं को भी साझा करने की कोशिश करें. अगर आप अपना दुख दर्द अपनों को शेयर करते हैं तो इससे आपका मन हल्का होता है. दिमाग पर बोझ नहीं पड़ता है.

सक्रिय रहें और मनोरंजन में भी व्यस्त रहें: डॉक्टर अशोक कुमार भगत ने बताया खुद को सक्रिय रखना बहुत जरूरी है. सक्रिय रहने से दिमाग इधर-उधर भटकता नहीं है. काम में मन लगा रहने से यूं ही समय कट जाता है और लोगों का खालीपन दूर हो जाता है. इससे लोगों के मन में बेकार की बातें नहीं आती है. अगर समय बचे तो उसका इस्तेमाल मनोरंजन में करें. इसके लिए आप टीवी- मोबाइल का इस्तेमाल कर सकते हैं या फिर अपनों के साथ गप्पे मार कर भी अपना मनोरंजन कर सकते हैं.

किसी भी तरह के नशा से करें परहेज: तंबाकू, धूम्रपान या फिर शराब के सेवन से ना सिर्फ स्वास्थ्य खराब होता है बल्कि इससे मानसिक तनाव भी बढ़ता है. आदमी जितना नशा करता है मानसिक तौर पर वह उतना ही परेशान होता रहता है. इसलिए कोशिश करें कि अभी के माहौल में नशा बिल्कुल भी नहीं करें. नशा करने से तनाव बढ़ेगा जो कि फायदेमंद नहीं है.

भरपूर नींद लें: अगर आप भरपूर नींद नहीं लेंगे तो मन चिड़चिड़ा रहेगा. इससे भी तनाव बढ़ता है, इसलिए कोशिश करें कि प्रतिदिन 8 घंटे तक सोए. अगर आप 8 घंटे नहीं सो पाते हैं तो कम से कम 6 घंटे जरूर नींद लें. 6 घंटे से कम अगर आप सोते हैं तो आप मानसिक तौर पर परेशान रहेंगे और बीमारियों की भी चपेट में आएंगे.

Leave a Reply

Your email address will not be published.