कुंभ मेले में श्रद्धालुओं के रजिस्ट्रेशन को लेकर नरेंद्र गिरि ने दिखाई नाराजगी ..

हरिद्वार – कुंभ मेले में श्रद्धालुओं के रजिस्ट्रेशन को लेकर नरेंद्र गिरि ने दिखाई नाराजगी मंत्री बोले सिर पर स्नान पर किया जाएगा रजिस्ट्रेशन आईजी ने कहा यह प्रक्रिया पहले से ही चली आ रही | कुंभ मेले में देश और विदेश से आने वाले श्रद्धालुओं का ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन कराने की रूपरेखा तैयार की जा रही है मगर श्रद्धालुओं का रजिस्ट्रेशन कराने को लेकर अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरि द्वारा इसका विरोध किया गया है वहीं नरेंद्र गिरी ने देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मांग की है|

 अगर उत्तराखंड सरकार कुंभ मेला कराने से पीछे हट रही है और कुंभ कार्यों में देरी हो रही है तो उनको निर्देश दे कि कुंभ को भव्य और सुंदर तरीके से मनाया जाए वही शहरी विकास मंत्री का कहना है कुंभ मेले मैं श्रद्धालुओं का रजिस्ट्रेशन सिर्फ कुंभ के स्थानों पर किया जा रहा है क्योंकि हाईकोर्ट ने कोरोना महामारी को देखते हुए जवाब मांगा था इस कारण वहां लिख कर देना भी जरूरी था वही कुंभ मेला आयोजित संजय गुंज्याल का कहना है कि रजिस्ट्रेशन की प्रक्रिया कोई पहली बार नहीं की जा रही है इससे पहले भी कई बार रजिस्ट्रेशन प्रक्रिया की गई है|

अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरि का कहना है कि जो लोग रजिस्ट्रेशन कराने की बात कर रहे हैं वह प्रशासनिक और संवैधानिक पद पर बैठे हुए हैं और उनका दायित्व यही बोलना है लेकिन जो कार्य असंभव है वह संभव नहीं हो सकता कुंभ मेले में लाखों करोड़ों की संख्या में श्रद्धालु हरिद्वार आयेगे उनका रजिस्ट्रेशन कराना असंभव है यह नहीं हो पाएगा और अगर इतने लोगों का रजिस्ट्रेशन कराया जाएगा |

तो काफी कुछ जाम की स्थिति भी हो जाएगी यह निर्णय काफी गलत है मेले को लेकर नरेंद्र गिरी का कहना है कि हम नरेंद्र मोदी से मांग करते हैं अगर उत्तराखंड सरकार को भव्य और सुंदर बनाने से पीछे हट रही है तो उनको निर्देश देंक्योंकि मेला कराने का दायित्व संपूर्ण उत्तराखंड सरकार का है नरेंद्र गिरी का कहना है कि मेला अधिकारी का कहना है कि हम मेला कराने के लिए तैयार बैठे हैं ऊपर से निर्देश प्राप्त नहीं हुए हैं इसी कारण हमारे हाथ बंधे हुए हैं |

हमें नहीं पता चल रहा कि ऊपर का निर्देश क्या है हम मुख्यमंत्री से मांग करते हैं कि निर्देश दें मेला अधिकारी को कि जितने भी कार्य है उनको जल्द पूरा करें जिसे कुंभ भव्य और सुंदर मनाया जा सके| उत्तराखंड के शहरी विकास मंत्री मदन कौशिक का कहना है कि अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष कुंभ के कार्यों को लेकर नाराजगी नहीं दिखा रहे है मेरी नरेंद्र गिरी महाराज से वार्ता हुई है उनका कहना है कि पुराना महामारी की वजह से जो कार्य रुके हैं उसे पूरे कराए जाए वही श्रद्धालुओं के रजिस्ट्रेशन को लेकर मदन कौशिक का कहना है रजिस्ट्रेशन सिर्फ कुंभ स्नान ऊपर ही किए जाएंगे बाकी के दिनों में श्रद्धालुओं का रजिस्ट्रेशन नहीं किया क्योंकि हाई कोर्ट द्वारा मांगा गया था|

 कोरोना महामारी से बचाव के लिए सरकार द्वारा क्या कार्य किए जा रहे हैं कुंभ मेले को लेकर तब वहां लिख कर दिया गया है टेंट और पंडाल लगाने को लेकर मदन कौशिक का कहना है सभी अखाड़ों में टेंट और पंडाल लगाए जाएंगे मगर उनके पास जवाब नहीं था कि आखिर यह कार्य सरकार के द्वारा किया जाएगा या फिर अखाड़े द्वारा ही व्यवस्था की जाएगी

वही कुंभ मेला आयोजित संजय गुंज्याल का कहना है कि 14 जनवरी का मकर सक्रांति स्नान पर्व स्नान है और यह काफी महत्वपूर्ण स्थान है और इसमें काफी बड़ी संख्या में श्रद्धालु आते हैं और विशेष रूप से उत्तराखंड के पहाड़ी जिलों से भारी संख्या में श्रद्धालु गंगा स्नान करने आते हैं वहीं श्रद्धालुओं के रजिस्ट्रेशन को लेकर संजय गुंज्याल का कहना है कि उत्तराखंड में जितने भी पर्यटक स्थल है उसमें पहले ही रजिस्ट्रेशन की प्रक्रिया चलती आईं है और यह कोई नई कार्रवाई नहीं है क्योंकि हर जनपद में स्मार्ट सिटी पोर्टल में जो भी व्यक्ति राज्य में प्रवेश करता है उनका रजिस्ट्रेशन किया जाता है

कुंभ मेले में श्रद्धालुओं के रजिस्ट्रेशन कराए जाने को लेकर अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरि ने नाराजगी दिखाई है तो वही मंत्री मदन कौशिक ने कहा है कि रजिस्ट्रेशन सिर्फ कुंभ के स्नान पर्व पर ही किया जाएगा बाकी दिनों में किसी भी श्रद्धालुओं का रजिस्ट्रेशन नहीं किया जाएगा तो वही कुंभ मेला आईजी ने कहां की रजिस्ट्रेशन की प्रक्रिया पहले से की जाती है और यह कोई नई बात नहीं है अब देखना होगा अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष नरेंद्र गिरी द्वारा दिखाई गई नाराजगी के बाद क्या सरकार रजिस्ट्रेशन की प्रक्रिया को बंद करती है या नहीं

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *