बिहार में हमने कितना काम किया है, उसे किसी को बताने की जरूरत नहीं : नीतीश कुमार

बिहार के सीएम नीतीश कुमार लगातार सभाएं कर रहे हैं. सीएम आज भागलपुर के गोपालपुर विधानसभा में जेडीयू प्रत्याशी के नरेंद्र कुमार नीरज के लिए वोट मांगा. साथ ही सभा में मैजूद सभी एनडीए के नेताओं को धन्यवाद कहा. उन्होंने कहा कि बिहार में हमने कितना काम किया है, उसे किसी को बताने की जरूरत नहीं है. उन्होंने कहा कि हमने पहले से ही कहा था कि हम न्याय के साथ विकास का काम करेंगे. हमने हर इलाके का विकास किया और समाज के हर तबके का उत्थान किया. अपने काम के दौरान हमने किसी इलाके की उपेक्षा नहीं की. सीएम ने कहा कि पहले क्या स्थिति थी? लोग शाम को घर से बाहर तक नहीं निकलते थे. कब किसका अपहरण हो जाए, किसी को पता तक नहीं होता था. उन्होंने कहा कि हमने पहले ही कहा था कि हम अपराध को कभी बर्दाश्त नहीं करेंगे. हमें जबसे काम करने का मौका मिला हमने पहले राज्य में कानून राज कायम किया. उन्होंने कहा कि हमने शिक्षा के क्षेत्र में काम किया है. पहले पढ़ाई को लेकर बिहार की क्या स्थिति थी.

लेकिन हमने सबमें सुधार किया. लड़कियां पहले पढ़ने नहीं जाया करती थी. लेकिन हमने पोशाक योजना की शुरुआत की. उसके बाद धीरे-धीरे हमने प्राथमिक विद्यालयों में लड़कियों के लिए साईकिल योजना शुरू की. सीएम ने बताया कि हमने इसके बाद स्कूलों में सर्वे कराया तब मालूम चला कि लड़कों के अपेक्षा लड़कियां स्कूलों में ज्यादा हैं.नीतीश कुमार ने कहा कि एक बात जानकर आपको हैरानी होगी कि पिछली बार मैट्रिक परिक्षा में लड़कों की अपेक्षा में लड़कियों की संख्या ज्यादा थी. उन्होंने कहा कि मतलब सोच लीजिए कि कहां लड़कों की संख्या ज्यादा होती और अब लड़कियां भी पढ़ाई में लड़कों को खूब टक्कर दे रही हैं. उन्होंने आगे बताया कि एक बार वे सभा को संबोधित कर लौट रहे थे तो कुछ लड़कों ने भी उनसे स्कूल जाने के लिए साईकिल की मांग कर दी. जिसके बाद हमने उनके लिए भी साईकिल बांटनी शुरू कर दी.अपने संबोधन में नीतीश कुमार ने कहा कि हमने किस क्षेत्र में काम नहीं किया या फिर कोई ऐसा क्षेत्र जिकसी उपेक्षा की गई हो?

हमने महिलाओं के उत्थान के लिए काम किया. उन्होंने कहा कि पहले क्या स्थिति थी? महिला को किसी भी चीज में भागीदारी नहीं थी. लोग उन्हें दबाकर रखते थे. लेकिन हमने महिलाओं की क्षमता को समझा. एक बात जान लीजिए. हम जब भी बाहर जाते हैं तो वहां का कल्चर और उस राज्य के विकास का आधार को समझने की कोशिश करते हैं. हम समझ गए कि बिहार में महिलाओं के पास कितनी क्षमता है. हमने उन्हें पंचायती राज में 50 प्रतिशत का आरक्षण दिया. जिसके बाद महिलाएं जनप्रतिनिधि के रुप में उभरने लगी. उन्होंने कहा कि आज महिलाएं सम्मान के साथ जिन्दगी जिती हैं. इसलिए हम आपसे अनुरोध करते हैं कि बिहार में विकास को आगे बढ़ाना है, इसके लिए आपसे वोट की अपील करते हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *