कोरोना के नए लक्षणों को पहचानकर करें खुद का बचाव

लक्षण का पता होने से पहले शुरू हो सकेगा इलाज

पहले इलाज शुरू हो जाने से मरीज जल्द होंगे स्वस्थ

बांका, 17 नवंबर

कोरोना का दायरा बढ़ता ही चला जा रहा है. नए-नए लक्षण लगातार सामने आ रहे हैं. पिछले दिनों विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) ने कुछ नए लक्षणों के बारे में जानकारी साझा की है, जिसे जानना बहुत जरूरी है. अगर आप इन लक्षणों को जान जाएंगे तो कोरोना से सावधानी बरतने में आसानी होगी. साथ ही इलाज भी पहले शुरू हो सकेगा. इससे आप जल्द स्वस्थ भी हो जाएंगे.

शहरी प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र के प्रभारी डॉ सुनील कुमार चौधरी कहते हैं कि किसी भी बीमारी का बेहतर इलाज तभी हो पाता है जब आप उसकी सही पहचान कर लेते हैं. और इसकी शुरुआत घर से हो जाए तो बेहतर है. डब्ल्यूएचओ ने जो कोरोना के नए लक्षण के बारे में बताया है, उसकी पहचान कर खुद को आप सुरक्षित रख सकते हैं. इससे कोरोना की चेन तोड़ने में मदद मिलेगी.

ये हैं नए लक्षण: डब्ल्यूएचओ के मुताबिक, गले में फोड़ा-फुंसी होना और तनाव होना भी कोरोना के लक्षण है. हाथ में खुजली होना, आंखों का लाल होना और शरीर में जहां-तहां दर्द होना भी कोरोना पीड़ितों में पाया गया है. इसके अलावा डायरिया के लक्षण भी कोरोना मरीजों में मिले हैं.

ये हैं गंभीर लक्षण: सांस लेने में दिक्कत होना सीने में दर्द होना और जाने-आने में परेशानी होना, यह कोरोना के गंभीर लक्षणों में से है. ऐसे कोई भी लक्षण खुद में या किसी और में दिखाई पड़े तो तत्काल डॉक्टर से संपर्क करें. थोड़ी सी लापरवाही ना सिर्फ आपका नुकसान करेगा, बल्कि समाज के कई लोगों को कोरोना की चपेट में ले सकता है.

ये हैं आम लक्षण: बुखार होना, कफ होना, थकावट का एहसास होना, खाने में स्वाद नहीं आना और किसी भी चीज की खुशबू का एहसास नहीं होना- यह कोरोना के आम लक्षण हैं. ऐसे लक्षण भी दिखाई दे तो डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए. कोरोना जांच करा लेनी चाहिए.

कोविड 19 के दौर में रखें इसका भी ख्याल:
• व्यक्तिगत स्वच्छता और 6 फीट की शारीरिक दूरी बनाए रखें.
• बार-बार हाथ धोने की आदत डालें.
• साबुन और पानी से हाथ धोएं या अल्कोहल आधारित हैंड सैनिटाइजर का इस्तेमाल करें.
• छींकते और खांसते समय अपनी नाक और मुंह को रूमाल या टिशू से ढंके.
• उपयोग किए गए टिशू को उपयोग के तुरंत बाद बंद डिब्बे में फेंके.
• घर से निकलते समय मास्क का इस्तेमाल जरूर करें.
• बातचीत के दौरान फ्लू जैसे लक्षण वाले व्यक्तियों से कम से कम 6 फीट की दूरी बनाए रखें.
• आंख, नाक एवं मुंह को छूने से बचें.
• मास्क को बार-बार छूने से बचें एवं मास्क को मुँह से हटाकर चेहरे के ऊपर-नीचे न करें
• किसी बाहरी व्यक्ति से मिलने या बात-चीत करने के दौरान यह जरूर सुनिश्चित करें कि दोनों मास्क पहने हों
• कहीं नयी जगह जाने पर सतहों या किसी चीज को छूने से परहेज करें
• बाहर से घर लौटने पर हाथों के साथ शरीर के खुले अंगों को साबुन एवं पानी से अच्छी तरह साफ करें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *