ज्यादा से ज्यादा एड्स पीड़ित मरीजों की पहचान से होगा एड्स पर नियंत्रण- मंगल पांडेय 

 • 2030 तक राज्य से होगा एड्स का खात्मा • एड्स पीड़ित लाभुकों को राशी की गयी हस्तांतरित• 7 नए ए.आर.टी. केन्द्रों का किया गया उद्घाटन 

पटना/ 1 दिसंबर-

बिहार राज्य एड्स नियंत्रण समिति तथा यूनिसेफ बिहार के संयुक्त तत्वाधान में विश्व एड्स दिवस, 2020 के अवसर पर सेमिनार सह फोटो प्रदर्शनी का आयोजन आज पटना के गाँधी मैदान स्थित होटल लेमन ट्री में किया गया. इस कार्यक्रम का उद्घाटन स्वास्थ्य मंत्री बिहार सरकार मंगल पांडेय द्वारा दीप प्रज्वलित कर किया गया. इस अवसर पर स्वास्थ्य समिति द्वारा संचालित “युवा संचार 2020” राज्य स्तरीय प्रश्नोतरी प्रतियोगिता के विजेताओं को पुरस्कृत किया गया और बिहार शताब्दी एड्स पीड़ित कल्याण योजना के अंतर्गत लाभुकों को राशी हस्तांतरित की गयी.7 नए ए.आर.टी. केन्द्रों का किया गया उद्घाटन:स्वास्थ्य मंत्री बिहार सरकार मंगल पांडेय द्वारा आज 7 नए ए.आर.टी. केन्द्रों का उद्घाटन किया गया जिससे अब राज्य में संचालित ए.आर.टी. केन्द्रों की संख्या 27 हो गयी है. नए केंद्र नालंदा, कैमूर, सुपौल, जमुई, मुंगेर, पूर्णिया और सिवान जिलों में शुरू किये गए हैं.  इस अवसर पर स्वास्थ्य मंत्री ने कहा विगत वर्षों में नए ए.आर.टी दवाओं की खोज की गयी है. जिस व्यक्ति में आईसीटीसी जांच के उपरान्त संक्रमण की पुष्टि होती है उसे ए.आर.टी. केन्द्रों में केंद्र सरकार द्वारा सभी ए.आर.टी. दवाएं निशुल्क उपलब्ध करायी जाती हैं. अपने अनुभव को साझा करते हुए स्वास्थ्य मंत्री ने बताया एड्स पीड़ित मरीजों के बयान से यह स्पष्ट है कि पूरी दवा का सेवन और चिकित्सीय निर्देश का पालन कर एक एड्स पीड़ित व्यक्ति भी स्वस्थ और लम्बा जीवन जी सकता है.सभी जगह निशुल्क जांच की है सुविधा:इस अवसर पर बोलते हुए प्रधान सचिव, स्वास्थ्य विभाग प्रत्यय अमृत ने कहा राज्य में एचआईवी की जांच सभी सरकारी अस्पतालों में निशुल्क उपलब्ध है एवं इसके लिए जांच केन्द्रों की संख्या में वृद्धि की जा रही है. कालेजों में खुलेंगे “ सेहत सेंटर” :कार्यपालक निदेशक, राज्य स्वास्थ्य समिति मनोज कुमार ने बताया एड्स नियंत्रण के लिए अनेक कार्यक्रम चलाये जा रहे हैं. 2030 तक राज्य से एड्स का उन्मूलन के लिए राज्य सरकार संकल्पित है. युवाओं को जागरूक कर और उन्हें विभिन्न जागरूकता कार्यक्रम में शामिल कर हम एड्स पर नियंत्रण आसानी से कर सकते हैं. युवाओं की भागीदारी बढ़ाने के उद्देश्य से विभिन्न कालेजों में “सेहत सेंटर” खोलने की योजना है जहाँ स्वास्थ्य सम्बन्धी तथा एड्स को लेकर खुलकर चेचा की जा सकेगी.इस अवसर पर यूनिसेफ के शिवेंद्र पंडया, सय्यद हुब्बे अली, बिहार राज्य एड्स नियंत्रण समिति के संयुक्त निदेशन डॉ. अभय सिन्हा के साथ अन्य गणमान्य अधिकारीगण मौजूद थे.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *