पहले बुखार फिर खांसी हो तो कोरोना जांच जरूर कराएं: डॉ राजकमल चौधरी

घर बैठे आराम से कर सकते हैं कोरोना बीमारी की पहचान
कोरोना की पहचान कर घर के अन्य सदस्यों का कर सकते हैं बचाव

भागलपुर, 10 नवंबर

पहले बुखार हो और इसके बाद खांसी तो निश्चित तौर पर कोरोना जांच करा लें. ऐसा हाल के दिनों में कोरोना वाले मरीजों की जांच में देखा गया. मायागंज अस्पताल में हाल के दिनों में कोरोना के जितने भी मरीज आए हैं, सभी में यह देखा गया कि उन्हें पहले बुखार हुआ. इसके बाद खांसी हुई.
मायागंज अस्पताल के डॉ राजकमल चौधरी बताते हैं डब्ल्यूएचओ के मुताबिक कोरोना मरीजों को पहले बुखार होता है फिर खांसी होती है. इसके बाद मांसपेशियों में दर्द होती है, जी मचलने लगता है और फिर उल्टी होने लगती है. डायरिया होना कोरोना मरीजों का अंतिम लक्ष्य माना जाता है. मायागंज अस्पताल में हाल के दिनों में जितने भी कोरोना के मरीज आए, सभी में इसी तरह के लक्षण देखे गए. इस हिसाब से डब्ल्यूएचओ के निष्कर्ष की मायागंज अस्पताल में आने वाले मरीजों में पुष्टि हुई.

फ्लू में पहले खांसी फिर होता है बुखार: डॉ चौधरी कहते हैं कि आमतौर पर फ्लू में पहले खांसी होती है फिर बुखार होता है तथा इसमें सर दर्द और सूखी खांसी होती है. इस तरह से आप घर पर रहकर भी कोरोना और फ्लू के लक्षण को समझ सकते हैं और उस हिसाब से अपना इलाज करवा सकते हैं.

कोरोना के लक्षण दिखे तो घरवालों से बना लें शारीरिक दूरी: डॉ चौधरी का कहना है कि आप में जैसे ही कोरोना के लक्षण दिखने लगे तो घर के अन्य सदस्यों से दूरी बनाकर रखें. खासकर घर के बुजुर्गों से. अलग बाथरूम का इस्तेमाल करें और घर के सदस्यों से बात करते वक्त मास्क का जरूर इस्तेमाल करें. इससे आपके घर के सदस्यों का बचाव होगा.

योग और व्यायाम करें: डॉ चौधरी कहते हैं कि कोरोना के लक्षण दिखे तो जांच करवा कर अपना इलाज करवाएं. डॉक्टर जो दवा दे उसका सेवन करें. इसके अलावा घर पर रहते हुए योग और व्यायाम करें. इससे आप की प्रतिरोधक क्षमता बढ़ेगी, जिससे कोरोना से जल्द आप ठीक हो जाएंगे. शरीर की प्रतिरोधक क्षमता मजबूत रहने से कोरोना से उबरने में मदद मिलती है. साथ ही नींबू पानी का अधिक से अधिक सेवन करें. गर्म पानी से गागल करें.

कोविड 19 के दौर में रखें इसका भी ख्याल:
• व्यक्तिगत स्वच्छता और 6 फीट की शारीरिक दूरी बनाए रखें.
• बार-बार हाथ धोने की आदत डालें.
• साबुन और पानी से हाथ धोएं या अल्कोहल आधारित हैंड सैनिटाइजर का इस्तेमाल करें.
• छींकते और खांसते समय अपनी नाक और मुंह को रूमाल या टिशू से ढंके.
• उपयोग किए गए टिशू को उपयोग के तुरंत बाद बंद डिब्बे में फेंके.
• घर से निकलते समय मास्क का इस्तेमाल जरूर करें.
• बातचीत के दौरान फ्लू जैसे लक्षण वाले व्यक्तियों से कम से कम 6 फीट की दूरी बनाए रखें.
• आंख, नाक एवं मुंह को छूने से बचें.
• मास्क को बार-बार छूने से बचें एवं मास्क को मुँह से हटाकर चेहरे के ऊपर-नीचे न करें
• किसी बाहरी व्यक्ति से मिलने या बात-चीत करने के दौरान यह जरूर सुनिश्चित करें कि दोनों मास्क पहने हों
• कहीं नयी जगह जाने पर सतहों या किसी चीज को छूने से परहेज करें
• बाहर से घर लौटने पर हाथों के साथ शरीर के खुले अंगों को साबुन एवं पानी से अच्छी तरह साफ करें

Leave a Reply

Your email address will not be published.

%d bloggers like this: