पीके बोले, भाजपा ने बंगाल चुनाव में दहाई का आकड़ा किया पार तो छोड़ दूंगा काम

नई दिल्ली :  पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव नजदीक है और अब बंगाल चुनाव को लेकर राजनीतिक पार्टियों ने अपनी तैयारियों को अब और तेज कर दिया है. भाजपा लोकसभा चुनाव 2019 में मिले आकड़े से  गदगद है और जिस तरह से दूसरी राजनीतिक पार्टियों से नेता भाजपा में आ रहे है उसने भाजपा के इरादों को अब और मजबूत कर दिया है. पश्चिम बंगाल चुनाव के लेकर बयानबाजी भी खूब  हो रही है और नेता अपने विपक्षियों को घेरने का एक भी मौका नहीं छोड़ना चाहते है. भाजपा जहां राज्य में अपनी पैठ बनाने की कोशिश कर रही है तो वहीं सत्ताधारी तृणमूल कांग्रेस के पास इस बार अपनी सत्ता को बचाने की चुनौती है. टीएमसी को बागी नेताओं ने परेशान कर दिया है औऱ नेताओं द्वारा लगातार पार्टी छोड़कर दूसरे राजनीतिक दलों को ज्वाइन करने का सिलसिला टीएसी की मुश्किले बढ़ा रहा है.

ये भी पढ़े : सुबह की ताज़ा ख़बरे Morning news / 21th December 2020

इसी बीच  TMC के चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर ने भाजपा को लेकर  आज बड़ा  दावा किया है जिसने राजनीति के गलियारों में बयानबाजी के सिलसिले को और तेज कर दिया है. दरअसल, प्रशांत किशोर ने आज ट्वीट कर कहा, ‘मीडिया का एक वर्ग भाजपा के समर्थन में माहौल बनाने की कोशिश कर रहा है, लेकिन वास्तव में भाजपा पश्चिम बंगाल में डबल डिजिट यानि दहाई आंकड़ा के लिए भी संघर्ष करेगी. उन्होने साथ ही ये भी कहा कि कृपया इस ट्वीट को सेव करके रखें और यदि भाजपा इससे बेहतर प्रदर्शन करती है तो मैं ये काम करना छोड़ दूंगा. वहीं चुनाव रणनीतिकार प्रशांत किशोर के इस दावे पर भाजपा ने पलटवार किया है. भाजपा नेता और पश्चिम बंगाल प्रभारी कैलाश विजयवर्गीय ने प्रशांत किशोर के इस दावे पर कहा कि पश्चिम बंगाल  चुनाव के बाद देश को अपना एक चुनावी रणनीतिकार खोना पड़ेगा.

ये भी पढ़े : पश्चिम बंगाल : ममता बनर्जी ने AIMIM को बताया भाजपा की “बी” टीम

इन सब के बीच पश्चिम बंगाल में चुनाव सियासत काफी गरमा गई है. केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह 19 औऱ 20 दिसंबर को पश्चिम बंगाल के दो दिवसीय दोरे पर थे जहां कल बोलपुर में अमित शाह के रोड शो में भारी जनसैलाब उमड़ता नजर आया. गृहमंत्री अमित शाह ने दावा किया कि ये जनसैलाब पश्चिम बंगाल में परिवर्तन की और इशारा कर रहा है और अब पश्चिम बंगाल में भाजपा की सरकार बनने जा रही है तथा बंगाल की सत्ता से लोग ममता बनर्जी को हटाने के लिए बेकरार है. खैर बयानबाजी का दौर तो जारी है ही लेकिन आने वाले दिनों में ये अब देखना होगा की पश्चिम बंगाल की जनता किसे सत्ता पर बैठाती है. देखना ये भी दिलचस्प होगा की चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर का दावा सही साबित होता है या फिर भाजपा पश्चिम बंगाल में कमल खिलाने में कामयाब होगी.

स्टोरी : आशीष कुमार साह

( नई दिल्ली )

Leave a Reply

Your email address will not be published.